Sunday , June 7 2020

लॉक डाउन : दिल्ली से लौटे सैकड़ों नेपालियों को नेपाल सरकार ने नहीं दी प्रवेश की अनुमति, प्रशासन ने सभी को क्वारन्टीन के लिए भेजा

लॉक डाउन के बाद दिल्ली एनसीआर से आए भारत नेपाल के सोनौली सीमा पर लगभग तीन सौ की संख्या में नेपाली नागरिकों को सनौली के नो मैंस लैंड पर दो दिन से धरना देने के बाद भी नेपाल प्रशासन ने अपने देश में प्रवेश की अनुमति नहीं दी । जिसके बाद महराजगंज के जिलाधिकारी बॉर्डर पहुंचकर नेपाली नागरिकों को नो मैंस लैंड से भारत में वापस लाएं और उन्हें नौतनवा इंटर कॉलेज में बनाए गए क्वारन्टीन वार्ड में रखा गया । जिलाधिकारी ने बताया कि 14 दिनों तक सभी नेपाली नागरिक क्वारन्टीन में रहेंगे इस दौरान के स्वास्थ्य की जांच तथा रहने और भोजन का भी इंतजाम किया जाएगा वही नेपाली नागरिकों ने अपने देश के खिलाफ जमकर नारेबाजी किया और मोदी मोदी के जयकारे लगाए ।

कोरोना से बचाव के लिए एक सप्ताह पहले भारत में शुरू हुए लॉक डाउन के साथ ही भारत नेपाल सीमा पर पब्लिक मोमेंट के लिए सील कर दिया गया था । वहीं दिल्ली एनसीआर से सैकड़ों की संख्या में नेपाली नागरिक जो अपने देश जाना चाह रहे थे वह सोनौली बॉर्डर पर फस गए उन्हें नेपाल में घुसने की इजाजत नेपाल पुलिस ने नहीं दी । जिसके बाद जबरन सैकड़ों की संख्या में नेपाली नागरिक नेपाल में प्रवेश करना चाहे तो नेपाली पुलिस ने उन पर लाठीचार्ज कर दिया और उन्हें अपनी सीमा में घुसने नहीं दिया जिसके बाद नेपाली नागरिक नो मैंस लैंड पर ही धरने पर बैठ गए और उनकी मांग थी कि जब तक नेपाल सरकार उनको लेगी नहीं तब तक वह धरने पर बैठे रहेंगे । लेकिन जब ऐसा नहीं हुआ तो महाराजगंज के जिलाधिकारी डॉ उज्जवल कुमार ने उन नेपाली नागरिकों को समझा-बुझाकर वापस भारत में लाएं और नौतनवा इंटर कॉलेज में बनाए गए क्वारन्टीन वार्ड में रखा गया ।

जिलाधिकारी डॉ उज्ज्वल कुमार ने बताया कि 14 दिनों तक सभी नेपाली नागरिक क्वारन्टीन में रहेंगे इस दौरान के स्वास्थ्य की जांच तथा रहने और भोजन का भी इंतजाम किया गया है ।