Sunday , October 25 2020

भारत-चीन के बीच तनाव बढ़ा, चीनी राष्ट्रपति ने अपने देश की सेना से युद्ध के लिए तैयार रहने को कहा

भारत और चीन के बीच सीमा विवाद पिछले 6 महीने से लगातार चल रहा है । जून में गलवान घाटी की घटना के बाद भारत ने इसे लेकर बेहद सख्त रुख अख्तियार किया । अब खबरें आ रही हैं कि चीनी राष्ट्रपति शी जिनपिंग ने अपने देश की सेना से युद्ध के लिए तैयार रहने को कहा है ।
इस बीच चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग ने अपने सैनिकों से युद्ध की तैयारी करने को कहा है। CNN की रिपोर्ट के मुताबिक, जिनपिंग ने एक मिलिट्री बेस के दौरे पर सैनिकों से कहा- अपना पूरा दिमाग और ऊर्जा युद्ध की तैयारी पर केंद्रित करो। जिनपिंग मंगलवार को चीन के गुआंगडोंग के एक मिलिट्री बेस के दौरे पर थे जब उन्होंने सैनिकों को युद्ध की तैयारी की बात कही। जिनपिंग ने अपने सैनिकों को हाई अलर्ट की स्थिति में रहने को कहा है।
जिनपिंग पीपल्स लिबरेशन आर्मी मैरीन कॉर्प्स का निरीक्षण करने पहुंचे थे। चीन के राष्ट्रपति ने सैनिकों से वफादार, बिल्कुल ‘शुद्ध’ और पूरी तरह भरोसेमंद रहने की अपील भी की। चीन के राज्य गुआंगडोंग में शी जिनपिंग के पहुंचने का मुख्य मकसद शेनझेन स्पेशल इकोनॉमिक जोन की 40वीं वर्षगांठ के मौके पर भाषण का कार्यक्रम था। बता दें कि भारत, अमेरिका और ताइवान के साथ इस वक्त चीन के संबंध बेहद तनावपूर्ण हैं। इसके साथ ही चीन 23 पड़ोसी देशों के साथ संबंध खराब कर चुका है।
इधर, भारतीय सेनाएं सीमा पर डटी हैं और हर परिस्थिति का माकूल जवाब देने के लिए तैयार हैं। तीनों सेनाओं ने अपनी पूरी तैयारी की हुई है। आर्मी और एयरफोर्स का ज्वाइंट वॉर की तैयारियां भी शुरू हो गई हैं। वायुसेना के लिए लेह हवाई क्षेत्र में एयरफोर्स ने रशियन सी-17एस, इल्यूशिन-76एस और यूएस आरिजन सी-130 जे सुपर हरक्यूलिस जेट (Russian-origin Ilyushin-76s and US-origin C-17s, C-130J Super Hercules) तैनात किया है।
ये फाइटर जेट लगातार सीमा पर उड़ानें भरकर बॉर्डर पर तैनात आर्मी के सैनिकों तक एयरफोर्स जरूरी चीजों की सप्लाई भी कर रही है। एयरफोर्स और आर्मी के ज्वाइंट वॉर प्रिपरेशन में चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ (सीडीएस) जनरल विपिन रावत की तैनाती का असर भी दिख रहा है। सीडीएस आर्मी और एयरफोर्स को एकसाथ मिलकर काम करने की प्लानिंग भी खुद कर रहे हैं।
लद्दाख क्षेत्र में तैनात एयरफोर्स के एक सीनियर कमांडर ने हाल ही कहा था कि एयरफोर्स हेडक्वार्टर का ऑर्डर है कि लद्दाख सेक्टर में तैनात आर्मी और अन्य सुरक्षा बलों को जो भी आवश्यकता है वहां तक पहुंचाई जाए। एलएसी के पास सेना के टैंक भी वॉर प्रेपरेशन के लिए पहुंचे हैं। यहां वायु सेना के चिनूक और एमआई-17वी 5 एस हेलीकॉप्टरों को तैनात किया गया है। ये लगातार एलएसी के पास उड़ानें भर रहे हैं।