Friday , July 3 2020

LAC पर सोमवार को चीन के साथ झड़प में भारत के 20 सैनिक शहीद, चीनी सेना के 43 सैनिक हताहत

LAC पर सोमवार को चीन के साथ हुई झड़प में भारत के 20 सैनिक शहीद हुए हैं । इससे पहले मंगलवार को दोपहर में एक अफसर और दो जवानों के शहीद होने की जानकारी सामने आई थी, लेकिन न्यूज एजेंसी एएनआई ने सरकारी सूत्रों के हवाले से बताया कि इस झड़प में 20 सैनिक शहीद हुए हैं । बताया जा रहा है कि ये संख्या बढ़ भी सकती है ।
इस घटना में चीनी सेना के 43 सैनिक हताहत हुए हैं । इसमें से कुछ की मौत हो गई है और कुछ जख्मी हुए हैं । बता दें कि सोमवार रात को दोनों देशों की सेनाओं के बीच हिंसक झड़प हुई थी । ये घटना तब हुई जब सोमवार रात को गलवान घाटी के पास दोनों देशों के बीच बातचीत के बाद सबकुछ सामान्य होने की स्थिति आगे बढ़ रह थी ।
इस पूरी घटना पर भारतीय सेना ने बयान जारी किया है । सेना ने कहा कि 15 जून की रात को गलवान घाटी इलाके में हिंसक झड़प हुई थी । इस घटना में 20 सैनिक शहीद हुए हैं ।
चीन और भारतीय सेना के बीच हुई तनातनी के चलते हिमाचल प्रदेश से सटी चीनी सीमा के इलाकों में अलर्ट किया गया ।अलर्ट के साथ ही हिमाचल पुलिस ने सूबे की सभी खुफिया एजेंसियों को सतर्क किया । राज्य के जिला किन्नौर और लाहौल स्पीति में रह रहे लोगों की सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिए एडवायजरी भी जारी की गई । हिमाचल के दो जिलों किन्नौर और लाहौल स्पीति के साथ चीन की सीमा लगती है ।
इससे पहले इस घटना पर विदेश मंत्रालय ने बयान जारी किया था। विदेश मंत्रालय ने कहा है कि भारत ने हमेशा LAC का सम्मान किया और चीन को भी ऐसा करना चाहिए । मंत्रालय ने कहा कि LAC पर कल जो हुआ उससे बचा जा सकता था। दोनों देशों को नुकसान उठाना पड़ा है.
LAC पर हुई इस झड़प के बाद दिल्ली में बैठकों का दौर भी शुरू हो गया । रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह की चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ जनरल बिपिन रावत और सेना प्रमुख जनरल एमएम नरवणे के साथ बैठक हुई। वहीं, राजनाथ सिंह ने इस मामले की जानकारी प्रधानमंत्री मोदी को फोन पर दी. तो वहीं विदेश मंत्री एस जयशंकर ने पीएम आवास जाकर प्रधानमंत्री मोदी से मुलाकात की।
मंगलवार को दोपहर में भारतीय सेना की ओर से जारी किए गए आधिकारिक बयान में कहा गया कि गलवान घाटी में सोमवार की रात को डि-एस्केलेशन की प्रक्रिया के दौरान भारत और चीन के सैनिकों के बीच हिंसक झड़प हुई । इस दौरान भारतीय सेना के एक अफसर और दो जवान शहीद हो गए ।
चीन ने क्या कहा
इस घटना के बाद चीनी विदेश मंत्रालय का आधिकारिक बयान भी सामने आया । बीजिंग ने उलटे भारत पर घुसपैठ करने का आरोप लगाया । अंतरराष्ट्रीय समाचार एजेंसी एएफपी के मुताबिक, बीजिंग का आरोप है कि भारतीय सैनिकों ने बॉर्डर क्रॉस करके चीनी सैनिकों पर हमला किया था । चीनी विदेश मंत्रालय की ओर से कहा गया कि भारत ऐसी स्थिति में एकतरफा कार्रवाई ना करे ।