Friday , July 3 2020

मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने बाहरियों की अपील, जो जहां है वहीं ठहरे

बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने देश के विभिन्न हिस्सों में फंसे बिहार के छात्र-छात्राओं और दिहाड़ी मजदूरों से अपील की है कि वह लॉकडाउन का पालन करें और जो लोग जहां हैं वहीं पर ठहरे रहें । जाहिर है राजस्थान के कोटा में बिहार के कई छात्र रह रहे हैं. ये सभी वहां मेडिकल और इंजीनियरिंग की तैयारी करते हैं । लेकिन लॉकडाउन की वजह से सभी शैक्षणिक संस्थान बंद हैं और छात्र वापस बिहार आने की छटपटाहट में हैं । नीतीश कुमार ने इन्हीं छात्र-छात्राओं को ध्यान में रखते हुए यह बात कही है ।
नीतीश कुमार ने अपने बयान में कहा है कि देश के विभिन्न हिस्सों में फंसे मजदूर, छात्र-छात्राओं, ठेले वाले और रिक्शा वालों को राहत पहुंचाने के लिए बिहार सरकार उन राज्य सरकारों से समन्वय बनाकर उनकी मदद करने की कोशिश कर रही है ।
नीतीश कुमार ने कहा कि वर्तमान परिस्थिति में लॉकडाउन समाज के व्यापक हित में है और कोविड-19 पर लगाम लगाने के लिए यह सबसे प्रभावी रास्ता है ।नीतीश ने कहा कि लोग अगर सामाजिक दूरी बनाने का पालन ठीक से करेंगे तो वह खुद को, अपने परिवार और समाज को इस बड़ी विपत्ति से बचा पाएंगे ।
नीतीश ने कहा इस बीमारी पर काबू पाने के लिए सामाजिक दूरी बनाना ही सबसे प्रभावी उपाय है।
बता दें, बिहार के अलावा उत्तर प्रदेश के भी हजारों छात्र कोटा में फंसे हुए हैं जिनको वापस लाने के लिए उत्तर प्रदेश सरकार ने 200 से भी ज्यादा बसें राजस्थान के लिए रवाना की है । हालांकि गरीब या मजदूरों को वापस लाने को लेकर अब तक कोई विचार नहीं किया गया है ।