Monday , August 10 2020

सच्चे समाज सुधारक थे छत्रपति शाहू जी महाराज,छत्रपति शिवाजी महाराज के थे वशंज

छत्रपति शाहू जी महाराज को सच्चे प्रजातंत्रवादी और समाज सुधारक के रूप में जाना जाता है। उन्होंने सामाजिक परिवर्तन की दिशा में जो क्रांतिकारी उपाय किए उसके लिए वह इतिहास में हमेशा याद किए जाएंगे। वह राजा थे लेकिन दलित और शोषित वर्ग के कष्ट को समझते थे। शाहूजी महाराज, महाप्रतापी छत्रपति शिवाजी महाराज के वशंज थे।
समाज से भेदभाव मिटाने को उन्होंने बहुत से रचनात्मक उपाय अपनाए। 1894 में उन्होंने कोल्हापुर राज्य की बागडोर संभाली। 1902 में उन्होंने राज्य में आरक्षण लागू कर दिया जो ऐतिहासिक कदम था। उन्होंने नौकरियों में पिछड़ी जाति के 50 प्रतिशत लोगों को आरक्षण देने का फ़ैसला किया। इस फैसले ने आरक्षण की संवैधानिक व्यवस्था की राह दिखाई। उन्होंने अपने शासन क्षेत्र में सार्वजनिक स्थानों पर किसी भी तरह के छुआछुत पर क़ानूनन रोक लगा दी। बाल विवाह पर प्रतिबंधित लगाया। उन्होंने अंतरजातीय विवाह और विधवा पुनर्विवाह के पक्ष में आवाज उठाई। दलित वर्ग के बच्चों को मुफ़्त शिक्षा की प्रक्रिया शुरू की। गरीब छात्रों के लिए छात्रावास स्थापित किए। 1917 में उन्होंने ‘बलूतदारी-प्रथा’ का अंत किया। 1918 में ‘वतनदारी’ प्रथा का अंत किया। वह महात्मा ज्योतिबा फुले से प्रभावित थे। उन्होंने सभी जाति वर्गों के लोगों को समानता से देखा। उन्होंने डॉ. भीमराव अम्बेडकर को उच्च शिक्षा के लिए विलायत भेजने में अहम भूमिका अदा की। डॉ. अम्बेडकर के ‘मूकनायक’ समाचार पत्र के प्रकाशन में भी उन्होंने सहायता की। पिछड़ी जातियों के मेधावी छात्रों के लिए छात्रवृत्तियां दीं। अपने राज्य में सभी के लिए अनिवार्य मुफ्त प्राथमिक शिक्षा भी शुरू की। वैदिक स्कूलों की स्थापना की। उन्होंने देवदासी प्रथा पर प्रतिबंध लगाने वाले कानून की शुरुआत की।