Thursday , August 6 2020

राजस्थान सियासी संकट : बीएसपी ने अपने विधायकों को जारी की व्हिप, कहा- कांग्रेस के खिलाफ वोट करें

राजस्थान में जारी राजनीतिक संकट और सुप्रीम कोर्ट में सोमवार को होने वाली सुनवाई से पहले (बसपा) के महासचिव सतीश मिश्रा ने रविवार को राजस्थान में अपने सभी 6 विधायकों को व्हिप जारी कर कांग्रेस सरकार की ओर से लाए जाने वाले विश्वास मत के खिलाफ वोट करने को कहा है । पार्टी ने ये व्हिप अपने छह विधायकों आर गुढ़ा, लखन सिंह, दीप चंद, जेएस अवाना, संदीप कुमार और वाजिब अली को जारी किया है । बता दें कि साल 2018 के विधानसभा चुनाव में बीएसपी के छह विधायक चुनाव जीते थे और बाद में वे सभी कांग्रेस में शामिल हो गए।
बीएसपी के जनरल सेक्रेट्री एससी मिश्रा ने कहा, “सभी छह एमएल को अलग अलग और एक साथ नोटिस भेजा गया है और साफ किया गया है कि बीएसपी एक नेशनल पार्टी है, इसलिए जबतक बीएसपी का राष्ट्रीय स्तर पर मर्जर नहीं होता, तब तक वहां 6 विधायकों का राज्य स्तर पर किसी तरह का कोई मर्जर नहीं हो सकता । अगर वो इसका उल्लंघन करते हैं तो उन्हें अयोग्य घोषित कर दिया जाएगा ।”

बता दें कि अभी तक ये तय नहीं हो पाया है कि राजस्थान में विधानसभा का सत्र कब बुलाया जाएगा। कांग्रेस लगातार राज्यपाल से इसकी मांग कर रही है कि राज्य में विधानसभा का सत्र बुलाया जाए । रविवार को राज्य के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने कहा कि वे उम्मीद करते हैं कि राज्यपाल कलराज मिश्र जल्द ही विधानसभा सत्र का बुलाने का आदेश देंगे ।
इससे पहले बीएसपी सुप्रीमो राजस्थान की गहलोत सरकार पर निशाना साध चुकी हैं । उन्होंने मांग की थी कि राजस्थान में राष्ट्रपति शासन लगाया जाना चाहिए। बीएसपी प्रमुख मायावती ने कहा था, ”राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने पहले दल-बदल कानून का खुला उल्लंघन व बीएसपी के साथ लगातार दूसरी बार दगाबाजी करके पार्टी के विधायकों को कांग्रेस में शामिल कराया. अब जग-जाहिर तौर पर फोन टेप कराके इन्होंने एक और गैर-कानूनी व असंवैधानिक काम किया है। ”
सुप्रीम कोर्ट राजस्थान मामले पर सोमवार को सुनवाई करेगा । सुनवाई सुबह 11 बजे शुरु होगी। कोर्ट को यह तय करना है कि राजस्थान हाई कोर्ट पायलट खेमे के विधायकों की याचिका पर सुनवाई कर सकता था या नहीं? स्पीकर ने अर्ज़ी दायर कर कहा है कि हाई कोर्ट ने विधायकों की अयोग्यता के मसले पर उनके फैसले से पहले सुनवाई कर के उनके अधिकार क्षेत्र का हनन किया है. उधर स्पीकर के सुप्रीम कोर्ट पहुंच जाने के बाद हाई कोर्ट ने भी फिलहाल अपना फैसला टाल दिया है । ऐसे में राजस्थान की राजनीतिक रस्साकशी में सुप्रीम कोर्ट की भूमिका अहम हो गई है।