Tuesday , May 24 2022

सोन नदी का पुल फिर एक तरफ से रोक प्रशासन दे रही दुर्घटना को न्योता।

04 अगस्त 2019

घनश्याम पाण्डेय/विनीत शर्मा(संवाददाता)

चोपन। जनपद सोनभद्र की लाइफलाइन कही जाने वाली सोन नदी पर स्थित पुराने पुल को बार-बार मरम्मत के नाम पर बंद कर दिया जाता है पिछले 2 वर्षों से लगातार इस पुल की मरम्मत का कार्य चल रहा है कई बार इसको निर्माण के नाम पर मरम्मत कर इसे जनता के लिए खोल तो दिया जाता है मगर महीने भर में ही इसे पुनः बंद कर दिया जाता है जिसके चलते कई बार वनवे से लोगों को आवागमन करना पड़ता है एक ही पूल से आने जाने के कारण पिछले एक वर्षों में दर्जनों मौतें हो चुकी हैं कहीं ट्रक चालकों का नियंत्रण खो जाता है तो कहीं बाइक सवार बड़े वाहनों की चपेट में आ जाते हैं कई बार हादसे बहुत बड़े स्तर पर भी हो चुके हैं बावजूद इसके न जाने क्यों प्रशासन मूकदर्शक बने खड़ा है जिसके चलते स्थानीय राहगीरों को भी बड़ी समस्याएं होती हैं जो प्रायः पुल पर पैदल आने-जाने के लिए इस्तेमाल करते हैं वहीं दूसरी ओर लगातार हो रही दुर्घटनाओं से एक बड़ा सवाल खड़ा हो जाता है कि सरकार जहां उन्नत तकनीक और विकसित देश की श्रेणी में भारत को लाकर खड़ा करना चाहता है वहां इस प्रकार सालों से वनवे और जाम की मुसीबत झेल रहे जनपद सोनभद्र को क्यों इस मुसीबत से बाहर नहीं निकाला जा सका है।

जब इस बारे में स्थानीय लोगों से बात की जाती है तो उनका कहना है कि हमें अक्सर डर लगा रहता है कि कहीं विपरीत दिशा से आने वाला ट्रक या कोई वाहन हमारे घरों में न घुस जाए वही सड़क पार करने वाले व्यक्ति को यह नहीं पता रहता कि वाहन किस दिशा से आएगी क्योंकि उन्हें निश्चित नहीं मालूम रहता कि पुल कब बंद है अथवा चालू है क्योंकि पूल को बंद करने से पहले प्रचार प्रसार भी नही किया जाता है।

जिससे की स्थानीय लोगो को इसकी जानकारी मिले कि पुल बाधित है। वही पुल पर बड़े-बड़े पत्थरों के ब्लॉक लगा दिए जाते हैं। पिछले वर्ष एक बाइक सवार जो हाईवे के नियमानुसार अपनी गति से आ रहा था अचानक टर्निंग पर रखे पत्थरों के कारण उसकी भीषण दुर्घटना हो गई और घटनास्थल पर ही उसकी मौत हो गई थी बावजूद इसके प्रशासन आज भी अपनी वही गलती दोहराने का प्रयास कर रहा है।

अब यह सवाल यह उठता है कि यदि पुल डैमेज़ है तो उसे पूरी तरह से बंद कर कोई दूसरा रास्ता क्यो नही निकाला जाता या शासन प्रसाशन किसी बड़ी दुर्घटना का इंतजार कर रही है। अब देखना है कि कब तक इस तरह का खेल चलता है।


नोट : रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें एंड्राइड ऐप अपने मोबाइल पर, आप हमें फेसबुक पर भी लाइक कर सकते है |