Sunday , May 22 2022

उन्नाव रेप पीड़िता का पत्र न मिलने से मुख्य न्यायाधीश रंजन गोगोई नाराज

31 जुलाई 2019

मुख्य न्यायाधीश रंजन गोगोई ने उन्नाव बलात्कार कांड की पीड़िता द्वारा गत जुलाई को उन्हें लिखा पत्र उनके समक्ष अब तक पेश नहीं किए जाने पर बुधवार को नाराजगी जताई है। उन्हें इस संबंध में न्यायालय के महासचिव से रिपोर्ट मांगी है। मामले की सुनवाई गुरुवार को होगी।

मुख्य न्यायाधीश रंजन गोगोई ने बुधवार को कहा, ‘दुर्भाग्यवश यह पत्र अभी तक सामने नहीं आया है, लेकिन खबरें ऐसे प्रकाशित हुई हैं मानो मैंने इस पत्र को पढ़ लिया है।’ उनकी पीठ ने कहा, ‘हम इस अत्यधिक विस्फोटक स्थिति के बारे में कुछ करेंगे।’ मुख्य न्यायाधीश की पीठ ने इस मामले को गुरुवार के लिए सूचीबद्ध करते हुए उत्तर प्रदेश सरकार को पीड़िता से संबंधित दुर्घटना के बारे में प्रगति रिपोर्ट पेश करने का निर्देश दिया।

पीठ ने ये टिप्पणियां उस वक्त कीं जब बच्चों से बलात्कार की बढ़ती घटनाओं के मामले में न्यायमित्र की भूमिका निभा रहे वरिष्ठ अधिवक्ता वी. गिरि ने उन्नाव बलात्कार प्रकरण को सुनवाई के लिए शीघ्र सूचीबद्ध करने का आग्रह किया।

पीड़िता और उसके परिवार के दो सदस्यों द्वारा लिखा गया यह पत्र 12 जुलाई का है और इसकी प्रति इलाहाबाद उच्च न्यायालय और उत्तर प्रदेश सरकार के अन्य प्राधिकारियों को भेजा गया था। मुख्य न्यायाधीश को भेजे गए पत्र में दावा किया गया है कि 7-8 जुलाई को भाजपा विधायक सेंगर से कथित रूप से संबंध रखने वाले कुछ व्यक्तियों ने पीड़िता के परिवार को गंभीर परिणामों की चेतावनी दी थी।


नोट : रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें एंड्राइड ऐप अपने मोबाइल पर, आप हमें फेसबुक पर भी लाइक कर सकते है |