Thursday , September 23 2021

दुद्धी में क्यों भाजपा कार्यकर्ताओं ने MLC को दिखाये काले झंडे, पढ़ें पूरी खबर

रमेश यादव (संवाददाता)

दुद्धी । कहा जाता है कि कमान से निकला तीर और जुबान से निकला शब्द कभी वापस नहीं होता। उक्त लाइन वाराणसी क्षेत्र के सपा एमएलसी आशुतोष सिन्हा पर सटीक बैठ रहा है।
वाराणसी क्षेत्र के सपा एमएलसी आशुतोष सिन्हा द्वारा जनवरी में वैक्सीन को लेकर दिया गया एक विवादित बयान आज भी उनका पीछा नहीं छोड़ रहा।
जनवरी में एमएलसी आशुतोष सिन्हा ने वैक्सीन को लेकर कहा था कि “हो सकता है बीजेपी वाले बाद में कह दें कि हमने जनसंख्या कम करने और नपुंसक बनाने के लिए वैक्सीन लगा दी।”
यह बयान भले ही 8 महीने पुराना है लेकिन दुद्धी क्षेत्र में पहली बार पहुंचे आशुतोष सिन्हा को इसका विरोध झेलना पड़ा।
दुद्धी में सिविल बार एसोसिएशन के शपथ ग्रहण समारोह में शिरकत करने पहुंचे एमएलसी आशुतोष सिन्हा को भाजपा कार्यकर्ताओं ने न सिर्फ काले झंडे दिखाये बल्कि वापस जाओ के नारे भी लगाए लेकिन हैरान करने वाली बात यह थी कि यह सब कुछ पुलिस की मौजूदगी में हुआ।
वहीं सिविल बार एसोसिएशन के कार्यक्रम में आने वाले एमएलसी का विरोध करने से अधिवक्ता संघ भी आक्रोशित हो गया और थोड़े समय के लिए भाजपा कार्यकर्ता और अधिवक्ता आमने सामने आ गए, हालांकि बाद में कोतवाली पुलिस ने सक्रियता दिखाते हुए विरोध प्रदर्शन करने वाले को हटाया तब जाकर अधिवक्ता संघ शांत हुआ।
भाजपा कार्यकर्ताओं का कहना कि कुछ महीने पहले वैक्सीन को लेकर एमएलसी ने विवादित बयान दिया था।

जबरदस्त विरोध का सामना करने के बाद मीडिया के सवालों का जबाब देते हुए एमएलसी आशुतोष सिन्हा ने कहा कि “उन्हें विरोध का कारण तो नहीं पता लेकिन जो भाजपा कार्यकर्ता विरोध कर रहे थे वे न तो मास्क पहने थे और न सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करते दिखे।”

बहरहाल लोकतंत्र में विरोध करना गलत नहीं है लेकिन जिस तरह से पुराने बयान को लेकर भाजपा कार्यकर्ताओं द्वारा विरोध प्रदर्शन किया गया यह कहीं से सही नहीं ठहराया जा सकता। यदि भाजपा कार्यकर्ता वैक्सीन को लेकर सचमुच चिंतित हैं तो उन आदिवासियों की चिंता जरूर करें, जिन्हें आश्वासन देकर पहला डोज तो लगवा दिया गया लेकिन दूसरे डोज के लिए वे पिछले चार महीने से भटक रहे हैं।