Monday , May 10 2021

आरक्षण के ऊहापोह में तैयारियों को पंख नहीं दे पा रहे दावेदार

मनोहर कुमार

* समीकरण बनाने में आरक्षण बना है पेंच
* आरक्षण के जारी होने के बाद ही आएगी राजनीतिक रौनक
* किस्मत आजमाने वाले अभी संशय में
चंदौली । त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव को लेकर तैयारियां जोरों से चल रही हैं।आरक्षण को लेकर ऊहापोह के चलते दावेदार तैयारियों को पंख नहीं लगा पा रहे हैं। हालांकि कुछ दिनों में आरक्षण की स्थिति भी साफ हो जाएगी। आरक्षण के इंतजार समीकरण बनाने वाले संशय में है। जिस कारण गांवों में राजनीतिक रौनक तेज नहीं हो पा रही है। धान के कटोरे के रूप में विख्यात चंदौली जनपद में खादी व सफेद कुर्ता पायजामा पहनने वालों की बहार आ रही है।
धान के कटोरे के रूप में विख्यात चंदौली जनपद में जिले का पहला नागरिक बनने के लिए जहां दांव अंडर खाने चल रही है। यहां जिला पंचायत अध्यक्ष पिछड़ा वर्ग के लिए आरक्षित हो गया है। इसके लिए जिला पंचायत सदस्य के लिए जोरदार दावेदार भी सामने आने वाले हैं। अभी तक प्रधान, जिला, क्षेत्र व ग्राम पंचायत सदस्यों के आरक्षण व आवंटन नहीं हुआ है।इसकी प्रक्रिया चल रही है। कौन से जिला पंचायत सदस्य क्षेत्र,बी डी सी व ग्राम प्रधान पद किस वर्ग व जाति के लिए आरक्षित होगी।इस पर अभी संशय व ऊहापोह है।इस ऊहापोह के चलते विभिन्न पदों पर अपना किस्मत आजमाने के लिए तैयार बैठे दावेदार अपनी तैयारियों को पंख नहीं लगा पा रहे हैं।हालांकि बैनरों पोस्टरों के जरिए विभिन्न पर्व की शुभकामनाएं देकर अपनी उपस्थिति का एहसास करा रहे हैं। सीटों के आरक्षित होने व न होने के संशय ऊहापोह के बीच लोगों में अपनी पैठ बना भी रहे हैं। दावेदार इस तर्क के बीच चुनावी झंडा बुलंद किए हैं कि किसी न किसी पद पर दावा जरूर करेंगे। पंचायत चुनाव मार्च व अप्रैल के बीच होने की प्रबल सम्भावना है। इससे गांवों की राजनीति में रंगत घुल रही है।हालांकि आरक्षण रूपी घोंसले के इंतजार में बैठे चुनावी परिंदे तैयारियों को पंख नहीं दे पा रहे हैं।